वर्ष 2008 से निरंतर संचालित इस साईट में छत्तीसगढ़ी भाषा साहित्य के लगभग 180 रचनाकारों के 5500 पेज की रचनायें और 40 किताबें संग्रहित हैं. इस अवधि में तीन बार साईट हैक हो जाने के कारण इस साईट में संग्रहित लगभग सभी रचनायें नष्ट हो गई थी.

छत्तीसगढ़ के पत्र पत्रिकाओं के संपादकों से अनुरोध है कि इस साईट में संग्रहित रचनाओं का यदि आप पुर्नप्रकाशन कर रहे हों तो कृपया गुरतुर गोठ डॉट काम का उल्लेख कर हमारे कार्य का भी प्रचार करें. . संपादक.


  • सहयोगकर्ता लाग ईन

    इस कड़ी में आईडी व पासवर्ड डाल कर प्रवेश करें.

    गुरतुर गोठ के संपादकीय स‍हयोगी बने एवं हमें रचनात्‍मक सहयोग देवें :
    आप फेसबुक, ब्‍लॉग व अन्‍य सामाजिक नेट ठिकानों पर सक्रिय है एवं अपनी अभिव्‍यक्ति छत्‍तीसगढ़ी में प्रस्‍तुत कर रहे हैं तो बतौर लेखक अपनी रचनायें स्‍वयं गुरतुर गोठ में प्रकाशित करें. इसके लिए हम आपको आईडी व पासवर्ड प्रदान करेंगें. जिससे कि आप स्‍वयं अपनी छत्‍तीसगढ़ी रचनायें एवं मित्रों की रचनायें यनिकोड़ में टाईप कर छत्‍तीसगढ़ी के सर्वाधिक क्लिक होने वाले पोर्टल गुरतुर गोठ में प्रकाशित कर सकते हैं. गुरतुर गोठ के एडमिन आईडी व पासवर्ड के लिए हमें लिखें.