Category: राजभाषा आयोग के कार्यक्रम

छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के तीन दिवसीय छठवां प्रांतीय सम्मेलन सम्‍पन्‍न

छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के तीन दिवसीय छठवां प्रांतीय सम्मेलन के उदघाट्न समारोह 19 जनवरी के दिन बेमेतरा छत्तीसगढ़ म सम्पन्न होइस। ए समारोह के माई पहुना माननीय श्री दयालदास बघेल संस्कृति मंत्री छत्तीसगढ़ शासन, अध्यक्षता डॉ विनय कुमार पाठक आयोग के अध्यक्ष, खास सगा श्री अवधेश चंदेल विधायक बेमेतरा, श्री सुरजीत नवदीप अउ श्री गणेश सोनी सदस्य आयोग, श्री राजेंद्र शर्मा जिला भाजपा अध्यक्ष, श्री नीलू शर्मा अध्यक्ष भंडार निगम अउ संचालन डॉ सुरेंद्र दुबे सचिव आयोग करीन।

नेवताय पहुना मन छत्तीसगढ़ी भाखा ल आघु बढ़ाय बर उदीम करइया मन के सम्मान करीन जेमा डॉ. जी. डी. शर्मा कुलपति बिलासपुर विवि, डॉ. बंश गोपाल सिंह, कुलपति पं. सुन्दरलाल शर्मा मुक्त विवि, श्री मंगल नसीम वरिष्ठ साहित्यकार दिल्ली, श्री विक्रम सिंह राजभाषा अधिकारी द.पू.म.रेलवे, श्री संजीव तिवारी साहित्यकार दुर्ग, श्री शरद यादव साहित्यकार सीपत, श्री व्योम वत्स दिल्ली रहीन।

एखर बाद पुस्तक विमोचन के कार्यक्रम म आयोग दुआरा प्रकाशित डॉ. विनय कुमार पाठक के लोक व्यवहार अउ कार्यालयीन छत्तीसगढ़ी, डॉ. जे. आर. सोनी के सतनाम रहस्य, छत्तीसगढ़ी राजभाषा विशेषांक के संगे संग 60 पुस्तक मन के विमोचन होइस जेमा मुख्य रूप ले श्री राघवेन्द्र दुबे, श्री विवेक तिवारी, श्री निखिल पाठक, डॉ विनोद कुमार वर्मा, डॉ रंजना मिश्रा, श्रीमती लतिका मिश्रा, डॉ बलदाऊ प्रसाद निर्मलकर, श्रीमती विंध्यवासिनी दुबे, श्रीनिवास राव, डॉ. गीता तिवारी, डॉ. प्रदीप निर्णेजक, श्री नरेंद्र कौशिक, श्रीमती सुषमा पाठक, श्री गणेशराम राजपूत रहिन।

संझा छत्तीसगढ़ी कवि सम्मेलन होइस जेन बिहनिया 5 बजे तक चलीस एखर संचालन श्री पद्मलोचन शर्मा, श्री विवेक तिवारी, श्री अजय अमृतांशु, श्री काशीपुरी कुंदन, श्री अशोक आकाश, श्री संतोष कश्यप, श्री राजेंद्र पाटकर, श्री दिनेश गौतम, श्री किशोर तिवारी, श्री रामानंद त्रिपाठी, श्री अजय शर्मा मन करीन ए मउका म पधारे श्री कौशल साहू, श्री अनूप श्रीवास्तव, श्रीमती वसंती वर्मा, श्रीमती रश्मि गुप्ता समेत जम्मो कवि मन अपन प्रस्तुति दिहिन।




छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के तीन दिवसीय छठवां प्रांतीय सम्मेलन बेमेतरा छत्तीसगढ़ के दूसर दिन 20 जनवरी के समारोह म् माई पहुना माननीय श्री पुन्नूलाल मोहले मंत्री छत्तीसगढ़ शासन अउ डॉ विनय कुमार पाठक अध्यक्ष राजभाषा आयोग के अध्यक्षता अउ खास सगा श्री अवधेश चंदेल विधायक के गरिमामय उपस्तिथि म् सम्पन्न होइस । जेमा 4 सत्र म् चर्चा गोष्ठी होइस। पहिली सत्र “छत्तीसगढ़ी साहित्य म् महिला साहित्यकार मन के भूमिका” जेखर अध्यक्षता डॉ सत्यभामा आडिल, संचालन श्रीमती शकुंतला शर्मा अउ वक्ता डॉ अनुसूइया अग्रवाल, डॉ मृणालिका ओझा, डॉ हंसा शुक्ला, डॉ निरुपमा शर्मा, डॉ संध्यारानी शुक्ला, डॉ विद्यावती चंद्राकर, श्रीमती सरला शर्मा, श्रीमती तुलसी तिवारी, श्रीमती शशि दुबे, श्रीमती सुधा शर्मा, श्रीमती शोभा श्रीवास्तव, डॉ सुनीता मिश्रा रहीन ।

जम्मो वक्ता मन सार्थक चरचा करीन अउ आभार प्रदर्शन श्रीमती सुषमा शर्मा करिस। एखर बाद दूसर सत्र के विषय “लोक व्यवहार अउ प्रशासकीय कामकाज म् राजभाषा छत्तीसगढ़ी” के अध्यक्षता डॉ विनय कुमार पाठक, संचालन श्री राहुल सिंह वक्ता श्री राघवेन्द्र दुबे, डॉ सुधीर शर्मा, डॉ विनोद कुमार वर्मा अउ श्री बी रघु रहीन । ए सत्र म छत्तीसगढ़ी ल राजभाषा के रूप म् कइसे प्रयोग म् लाये जावय एखर उपर वक्ता मन अपन विचार रखिन। तीसर सत्र म् “मंचीय काव्य म् छत्तीसगढ़ी के प्रभाव अउ महत्व” विषय उपर अध्यक्षता डॉ विनय कुमार पाठक, संचालन डॉ सुरेंद्र दुबे, वक्ता श्री सुरजीत नवदीप, डॉ पी सी लाल यादव, श्री केदार परिहार, श्री मोहित वर्मा रहिन। एखर बाद चौथा सत्र म् चरचा के विषय “डॉ विमल कुमार पाठक के व्यक्तित्व,कृतित्व अउ योगदान” रहीस सत्र के अध्यक्षता डॉ विनय कुमार पाठक, संचालन डॉ सुरेंद्र दुबे अउ वक्ता डॉ नन्द किशोर तिवारी, श्री राघवेन्द्र दुबे, श्री निखिल पाठक रहीन।

ए मउका म् बेमेतरा आयोजन समिति के श्री अजय शर्मा, रामानंद त्रिपाठी, गजानंद शर्मा, निशा चौबे, सुषमा शर्मा, भारती सिंह अउ संगवारी मन संग श्री विनोद पाठक अउ श्री विवेक तिवारी रहीन।



छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के तीन दिवसीय छठवां प्रांतीय सम्मेलन बेमेतरा छत्तीसगढ़ के तीसर दिन 21 जनवरी के समारोह म चरचा के सत्र रहीस जेमा “छत्तीसगढ़ी म् अनुवाद परंपरा, प्रयोग अउ महत्व” विषय उपर चरचा करे गइस जेमा माई पहुना डॉ विनय कुमार पाठक अध्यक्ष राजभाषा आयोग, डॉ परदेशी राम वर्मा के अध्यक्षता, ख़ास श्री नरेंद्र कौशिक के संचालन रहीस अउ खास सगा श्री सुरजीत नवदीप, श्री गणेश सोनी प्रतीक सदस्य आयोग अउ श्री गणेश कौशिक, वक्ता डॉ दादुलाल जोशी, डॉ सोमनाथ यादव, डॉ सन्तराम देशमुख रहीन। जम्मो झन छत्तीसगढ़ी अनुवाद ल अउ कइसे सम्पन्न बनाय जाय ओखर उपर अपन विचार रखीन।

एखर बाद “खुला सत्र” के आयोजन होइस जेखर अध्यक्षता डॉ जे आर सोनी अउ संचालन श्री पद्मलोचन शर्मा ‘मुँहफट’ करीन, ए सत्र म जम्मो जुरियाये साहित्यकार मन अपन – अपन सुझाव अउ आयोजन के बारे म् अपन विचार ल रखीन। एखर बाद समापन सत्र होइस जेमा आयोग के अध्यक्ष डॉ विनय कुमार पाठक अपन विचार रखिन अउ विधिवत समापन के घोषणा करीन, खास सगा अवधेश चंदेल विधायक बेमेतरा रहीन, ए आयोजन ल सफल बनाय बर पधारे जम्मो अतिथी अउ साहित्यकार मन के आभार आयोग के सचिव डॉ सुरेंद्र दुबे करीन अउ इही तरा मया दया बनाए रखे के संग अउ आखिर म् गीतकार मीर अली मीर के गाये वन्देमातरम् ले छत्तीसगढ़ी के महाकुम्भ के समापन होइस।

ए महाकुम्भ ल सफल बनाय म बेमेतरा के आयोजन समिति के अध्यक्ष अजय शर्मा, संयोजक रामानन्द त्रिपाठी, डॉ राजेंद्र पाटकर, गौरी शंकर बाघ, जगदीश सोनी, गजानंद शर्मा, रामकुमार टंडन, गिरधारी देवांगन, सुषमा शर्मा, निशा चौबे, भारती सिंह अउ संगवारी मन के संग विवेक तिवारी अउ आयोग के अधिकारी कर्मचारी मन रहीन।

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”ये रचना ला सुनव”]



छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पाँचवां प्रांतीय सम्मलेन राजिम म सम्पन्न





छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पाँचवां प्रांतीय सम्मलेन राजिम म सम्पन्न होइस। ए मउका म माननीय श्री धरमलाल कौशिक प्रदेश अध्यक्ष भाजपा, डॉ. विनय कुमार पाठक अध्यक्ष आयोग, श्री चन्दूलाल साहू सांसद महासमुंद, डॉ सुरेंद्र दुबे सचिव आयोग, श्री संतोष उपाध्याय विधायक राजिम, श्री अमितेश शुक्ल पूर्व विधायक, श्री सुरजीत नवदीप सदस्य आयोग, श्री गणेश सोनी सदस्य आयोग, डॉ गणेश कौशिक, श्री मंगल नसीम साहित्यकार दिल्ली, श्री राजेंद्र मधुकर साहित्यकार आगरा के गरिमामय उपस्थिति म संम्पन होइस। ए मउका म 6 सत्र म विचार गोष्ठी , पुस्तक विमोचन अउ कवि सम्मेलन के आयोजन होइस। पुस्तक विमोचन म छत्तीसगढ़ी अनुवाद शिव महा पुराण- श्रीमती गीता शर्मा, कातिक महात्म- श्रीमती गिरजा शर्मा, फेसबुक के चक्कर-विवेक तिवारी, पं. अमृतलाल दुबे व्यक्तित्व एवं कृतित्व- डॉ अंजना शर्मा समेत कई ठन पुस्तक सामिल रहिस। ए मउका म प्रदेश भर के साहित्यकार मन सामिल होइन। जेमा श्री राघवेन्द्र दुबे, श्री संजीव तिवारी, डॉ राजेंद्र पाटकर, डॉ उग्रसेन कन्नौजे, डॉ प्रदीप निर्णेजक, श्री दिनेश रोहित चतुर्वेदी, श्री शरद यादव, डॉ सुनीता मिश्रा, श्रीमती रश्मि रामेश्वर गुप्ता घलव सामिल रहिन। सम्मेलन के संयोजक कवि काशीपुरी कुंदन, श्री राघोबा महाडिक अउ उंखर समिति राजिम के सदस्य मन रहिन ।




विमोचन छत्तीसगढ़ी अनुवाद शिव महा पुराण- श्रीमती गीता शर्मा

कार्यक्रम स्‍थल म साहित्‍यकार

 

छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पांचवा प्रांतीय सम्‍मेलन के दूसर दिन






राजिम, 29 जनवरी, 2017। छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पांचवा सम्‍मेलन के आखिरी दिन बिहनिया पांचवा सत्र ले चालू होईस। ये सत्र के विसय रहिस ‘लोकव्‍यवहार अउ राजकाज म छत्‍तीसगढ़ी’ जेखर अध्‍यक्षता श्री सुरजीत नवदीप करिन अउ संचालन डॉ.सुधीर शर्मा जी करिन। येमा डॉ.बिहारी लाल साहू, डॉ.गणेश कौशिक, श्री विजय मिश्रा, डॉ. माणिक विश्‍वकर्मा, श्री श्‍याम वर्मा अउ डॉ. सोमनाथ यादव अपन विचार व्‍यक्‍त करिन।

कार्यक्रम के छठवां सत्र के विसय ‘पाठ्यक्रम म छत्‍तीसगढ़ी’ रहिस। ये सत्र के अध्‍यक्षता डॉ. विनय कुमार पाठक करिन अउ संचालन डॉ.सुधीर शर्मा जी करिन जेमा डॉ.दादूलाल जोशी, बी.रघु, डी.पी.देशमुख, डॉ.शैैल चंद्रा, डॉ.चंदशेखर सिंह, श्री नरेन्‍द्र वर्मा, दिनेश गौतम, रूपेन्‍द्र साहू, श्री सपन सिन्‍हा, डॉ.मोहन लाल सा‍हू अउ डॉ.डी.पी. देशमुख अपन विचार रखिन। इही सत्र के संग पांचवा प्रांतीय सम्‍मेलन के समापन होईस।

पहिली दिन के कार्यक्रम के समाचार इंहां हे.


जुराव के फोटू




छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पांचवा सम्‍मेलन के पहिली दिन





राजिम, 28 जनवरी, 2017। छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पांचवा सम्‍मेलन के पहिली दिन बिहनिया नेवताए माई पहुना मन कार्यक्रम के उद्घाटन करिन अउ नेवताए विशेष सगा मन के सम्‍मान करे गीस। ओकर पाछू छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के सहयोग ले प्रकाशित पुस्‍तक शिव महापुराण, अनुवादक – श्रीमती गीता शर्मा अउ कातिक महात्‍म, अनुवादक – श्रीमती गिरजा शर्मा के संगें-संग आन साहित्‍यकार मन के पुस्‍तक के विमोचन होईस।

कार्यक्रम के पहिली सत्र म संत कवि पवन दीवान के उपर चरचा गोष्‍ठी होईस तेखर विसय रहिस ‘संत कवि पवन दीवान : छत्‍तीसगढ़ पृथक राज्‍य आंदोलन, साहित्‍य अउ समाज’ येखर अध्‍यक्षता डॉ. विनय कुमार पाठक, अध्‍यक्ष, छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग करिन। ये विसय के वक्‍ता रहिन कृष्‍णा रंजन, डॉ.विमल कुमार पाठक, श्री मुकुंद कौशल, डॉ.परदेशी राम वर्मा अउ श्री रवि श्रीवास्‍तव। कार्यक्रम के दूसरा सत्र के विसय रहिस ‘छत्‍तीसगढ़ी अउ ब्रजभाषा म अंतर्सबंध’ जेेमा आगरा ले पधारे विद्वान डॉ. राकेश मधुकर बिलासपुर के भाषा विद राघवेन्‍द्र दुबे अपन विचा प्रकट करिन।





कार्यक्रम के तीसर सत्र के विसय ‘छत्‍तीसगढ़ी साहित्‍य म आधुनिकता बोध’ के संयोजक दुर्ग के श्रीमती सरला शर्मा रहिन। येकर संचालन रायपुर के श्रीमती शशि दुबे जी करिन तेमा वक्‍ता रहिन रायपुर के डॉ.निरूपमा शर्मा, भिलाई के डॉ.नलिनी श्रीवास्‍तव, भिलाईच के श्रीमती शकुन्‍तला शर्मा, राजिम के श्रीमती सुधा शर्मा, बिलासपुर के श्रीमती तुलसी तिवारी, दुर्ग के डॉ. हंंसा शुक्‍ला अउ महासमुंद के श्रीमती अनसूया अग्रवाल रहिन।

ये सत्र के पाछू महिला साहित्‍यकार मन के गीत प्रस्‍तुति रहिस तेखर संचालन श्रीमती सुमन अनुपम बाजपेयी करिन। जेमा कोरबा के श्रीमती दीप दुर्गवी, बिलासपुर के श्रीमती वसंती वर्मा, रायपुर के डॉ.संध्‍या रानी शुक्‍ला, कोरबा के श्रीमती सुधा देवांगन अउ सरगुजिया गीत प्रस्‍तुत करिन श्रीमती मीना वर्मा ह।

आज के कार्यक्रम के चउथा सत्र ‘छत्‍तीसगढ़ी कवि सम्‍मेलन’ हे जेन ह चलत हे। येकर अध्‍यक्षता श्री गणेश सोनी प्रतीक करत हें अउ येकर संयोजक/संचालक श्री पद्मलोचन शर्मा करत हें जेकर सहयोग बर श्री कौशल साहू, श्री काशीपुरी कुन्‍दन, श्री रामानंद त्रिपाठी, श्री अजय साहू अउ श्री प्रदीप पाण्‍डेय लगे हें।


डिजिटल छत्‍तीसगढ़ी




काली के कार्यक्रम के संबंध म जानकारी इंहा हे।



छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पांचवा प्रान्‍तीय सम्‍मेलन





नेवता
छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग
पांचवा प्रान्‍तीय सम्‍मेलन
‘भगवान राजीव लोचन’ के दुवार राजिम म आयोजित
(स्‍व.संत कवि पवन दीवान जी ल समरपित 28 अउ 29 जनवरी, 2017)

प्रणम्‍य/मयारूक साहित्‍यकार भाई/बहिनी
छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के पांचवां प्रान्‍तीय सम्‍मेलन दिनांक 28 अउ 29 जनवरी, 2017 के राजिम म होही। कार्यक्रम के जम्‍मो नेवताए सगा मन के सानिध्‍य म हमर सम्‍मेलन के उछाह बाढ़ही। लिखये बेरा म खच्चित पहुंचिहा। तुंहर आये ले जुराव के फभित बाढ़ जाही।

दिन – 28 जनवरी, 2017
बेरा – बिहनिया 11.00 बजे ले
ठउर – पं.राम बिशाल पाण्‍डेय शास.उ.मा.शाला,
राजिम, जिला – गरियाबंद (छ.ग.)

स्‍वागताध्‍यक्ष                                                 डॉ. विनय कुमार पाठक
मान. चन्‍दूलाल साहू                                                  अध्‍यक्ष
सांसद, महासमुंद                                          छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग

श्री सुरजीत नवदीप                                               श्री गणेश सोनी
सदस्‍य                                                               सदस्‍य
छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग                             छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग

अगोरा म
आशुतोष मिश्रा                                                     डॉ.सुरेन्‍द्र दुबे
संचालक                                                                सचिव
संस्‍कृति उवं पुरातत्‍व विभाग                             छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग





कार्यक्रम
दिन 28 जनवरी, शनीवार, 2017
बिहनिया 9.00 बजे ले 11.00 बजे तक
स्‍वल्‍पाहार

उद्घाटन सत्र
बेरा -बिहनिया 11.00 बजे ले
नेवताए सगा मन के सम्‍मान

छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के दुवारा प्रकाशित पुस्‍तक के विमोचन
1. शिव महापुराण, अनुवादक – श्रीमती गीता शर्मा
2. कातिक महात्‍म, अनुवादक – श्रीमती गिरजा शर्मा
अन्‍य साहित्‍यकार मन के पुस्‍तक
(छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के आर्थिक सहयोग ले प्रकाशित)

पहिली सत्र
संत कवि पवन दीवान के उपर वरचा गोष्‍ठी
विसय:- संत कवि पवन दीवान : छत्‍तीसगढ़ पृथक राज्‍य आंदोलन, साहित्‍य अउ समाज
अध्‍यक्षता – डॉ. विनय कुमार पाठक, अध्‍यक्ष, छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग
वक्‍ता –
1. श्री कृष्‍णा रंजन
2. डॉ.विमल कुमार पाठक
3. श्री मुकुंद कौशल
4. डॉ.परदेशी राम वर्मा
5. श्री रवि श्रीवास्‍तव




जेवन
2.00 बजे ले 3.00 बजे तक

दूसाासत्र
मंझनिया 3.00 बजे ले संझाा 4.00 बजे तक
विसय :- छत्‍तीसगढ़ी अउ ब्रजभाषा म अंतर्सबंध
वक्‍ता –
1. डॉ. राकेश मधुकर, आगरा
2. श्री राघवेन्‍द्र दुबे, बिलासपुर

तीसर सत्र
संझाा 4.00 बजे ले 6.00 बजे तक
विसय :-
छत्‍तीसगढ़ी साहित्‍य म आधुनिकता बोध
संयोजक – श्रीमती सरला शर्मा, दुर्ग
संचालन – श्रीमती शशि दुबे, रायपुर
वक्‍ता –
1. डॉ.निरूपमा शर्मा, रायपुर
2. डॉ.नलिनी श्रीवास्‍तव, भिलाई
3. श्रीमती शकुन्‍तला शर्मा, भिलाई
4. श्रीमती सुधा शर्मा, राजिम
5. श्रीमती तुलसी तिवारी, बिलासपुर
6. डॉ. हंंसा शुक्‍ला, दुर्ग
8. श्रीमती अनसूया अग्रवाल, महासमुंद

गीत प्रस्‍तुति
संचालन – श्रीमती सुमन अनुपम बाजपेयी
वक्‍ता –
1. श्रीमती दीप दुर्गवी, कोरबा
2. श्रीमती वसंती वर्मा, बिलासपुर
3. डॉ.संध्‍या रानी शुक्‍ला, रायपुर
4. श्रीमती सुधा देवांगन, कोरबा
5. श्रीमती मीना वर्मा (सरगुजिया गीत)

चउथा सत्र
छत्‍तीसगढ़ी कवि सम्‍मेलन
संझाा 8.00 बजे ले
अध्‍यक्षता – श्री गणेश सोनी प्रतीक
संयोजक/संचालक/ – श्री पद्मलोचन शर्मा
सहयोगी संचालक –
1. श्री कौशल साहू
2. श्री काशीपुरी कुन्‍दन
3. श्री रामानंद त्रिपाठी
4. श्री अजय साहू
5. श्री प्रदीप पाण्‍डेय
काव्‍य पाठ – नेवताए सगा मन दुवारा।




दिनांक 29.01.2017, दिन इतवार
स्‍वल्‍पाहार
बिहनिया 9.00 बजे ले 10.00 बजे तक

पांचवा सत्र
बिहनिया 10.00 बजे ले 12.00 बजे तक

विसय:- लोकव्‍यवहार अउ राजकाज म छत्‍तीसगढ़ी
अध्‍यक्षता – श्री सुरजीत नवदीप
संचालन/संयोजन – डॉ.सुधीर शर्मा, रायपुर
वक्‍ता –
1. डॉ.बिहारी लाल साहू
2. डॉ.गणेश कौशिक
3. श्री विजय मिश्रा, रायपुर
4. डॉ.माणिक विश्‍वकर्मा
5. श्री श्‍याम वर्मा
6. डॉ. सोमनाथ यादव, बिलासपुर

छठवां सत्र
मंझनिया 12.00 बजे ले 2.00 बजे तक

विसय:- पाठ्यक्रम म छत्‍तीसगढ़ी
अध्‍यक्षता – डॉ. विनय कुमार पाठक
वक्‍ता – डॉ.दादूलाल जोशी, बी.रघु, डी.पी.देशमुख, डॉ.शैैल चंद्रा, डॉ.चंदशेखर सिंह, श्री नरेन्‍द्र वर्मा, दिनेश गौतम, रूपेन्‍द्र साहू, श्री सपन सिन्‍हा, डॉ.मोहन लाल सा‍हू, डॉ.सुरेश देशमुख




स्‍थानीय आयोजन समिति
संयोजक – श्री काशीपुरी कुन्‍दन – 9893788109
महिलाओं हेतु आवास व्‍यवस्‍था : आनंद गेस्‍ट हाउस, नयारापरा
पुरूषों हेतु आवास व्‍यवस्‍था : सरस्‍वती शिशु मंदिर, उ.मा.शाला, राजिम
आवास प्रभारी :- श्री गोविन्‍द चौधरी – 9826115900, श्री शिव कुमार ठाकुर – 9893015057

छत्तीसगढ़ी भाषा ल पहचान देवाबोन : दयाल दास बघेल

फोटो साभार : विवेक तिवारी
फोटो साभार : विवेक तिवारी

छत्तीगसढ़ी राजभाषा आयोग के स्थापना दिवस म महंत घासीदास संग्रहालय के सभागार म आयोजित कार्यक्रम के माई पहुना संस्कृति, पर्यटन एवं सहकारित मंत्री दयाल दास बघेल ह समारोह म कहिन के छत्तीसगढ़ी भाषा ल आठवां अनुसूची म सामिल करे बर सरलग उदीम करे जात हे। मंत्री दयाल दास बघेल ह कहिन के छत्तीसगढ़ी ल आठवां अनुसूची म सामिल कराबोन। मुख्यमंत्री मेर ये बारे म चर्चा करके प्रदेश के सांसद मन ल लोकसभा म ये विषय ल जोर-सोर से उठाये बर कहिबोन। येकर ले छत्तीसगढ़ी भाषा ल आठवां अनुसूची में सामिल करे म खच्चित सफलता मिलही। बघेल ह प्रदेश के साहित्यकार, लेखक मन ले घलव सहयोग करे के अपील करत ये दिसा म छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग के उदीम के बड़ई करिन। उमन कहिन के छत्तीसगढ़ी भाषा बोले म हमला गर्व के अनुभूति होना चाहिये तभे हम येकर सम्मान ल कायम राख पाबों। उमन बताईन के छत्तीसगढ़ी भाषा ल पहचान दिलाये के खातिर जउन हो सकही उमन मदद करहीं।

छत्तीसगढ़ी ल राजभाषा के दर्जा देहे गए हे, फेर अभी तक ये राजकाज के भाषा नइ बन पाये हे। येकर बर चेतना जगाये के उदीम करे जावत हे। ये बात छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग के अध्यक्ष डॉ. विनय कुमार पाठक ह कहिन। राजभाषा आयोग के अध्यक्ष डॉ. पाठक ह कहिन के छत्तीसगढ़ी ल आठवां अनुसूची म सामिल करना चाहिए। उमन कहिन के भाषा बर लोगन मन ल सचेत करे खातिर 28 नवंबर के दिन छत्तीसगढ़ी राजभाषा दिवस मनाये जाथे। उमन बताईन के बिलासपुर विश्वविद्यालय अउ डॉ. सीवी रमन विश्वविद्यालय म छत्तीसगढ़ी शोध पीठ के घोषणा गए हे। संगें-संग स्कूल कॉलेज अउ विश्वविद्यालय म छत्तीसगढ़ी पाठयक्रम चालू करे जाही। पीएससी परीक्षा मन म घलव छत्तीसगढ़ के अर्थशास्त्र, दर्शन, इतिहास, संस्कृति संग सबे पक्‍छ ल सामिल करे जाही। साहित्यकार राघवेन्द्र दुबे ह कहिन के प्रदेश के चौमुखी विकास तभे संभव होही जब भाषा के विकास होही, राजभाषा आयोग ये दिशा म उदीम करत हे। येकरे ले हम सब के अधिकार सुरक्षित रहिही। हरिभूमि के प्रबंध संपादक हिमांशु द्विवेदी ह कहिन के छत्‍तीसगढ़ी पढ़ाये खातिर संविधान के नहीं फरमान के जरूरत हे। ये अवसर म पद्मश्री डॉ. महादेव पाण्डेय, विशेष वक्ता आईं बी सी 24 चैनल के संपादक  रविकान्त मित्तल, सुरजीत नवदीप, श्री गणेश सोनी, गणेश कौशिक, कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ मानसिंह परमार, छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग के सचिव सुरेन्द्र दुबे, केयूर भूषण, दानेश्वर शर्मा के संग राजधानी के वरिष्ठ सहित्यकार अउ लेखक उपस्थित रहिन।

ये अवसर म डॉ.विमल पाठक के किताब ‘हांसव गावव गीत’, सेवाराम पाण्‍डेय के किताब ‘मोर गांव गंवा गे’, मकसूदन साहू के किताब ‘माटी के दियना’, सनत कुमार बघेल के किताब ‘नई क्रांति’, स्‍व.चंद्रिका प्रसाद मढ़रिया के किताब ‘महानदी के पार’, रमेश चौहान के किताब ‘दोहा के रंग’ कन्‍हैया मेश्राम के किताब ‘मनखे बनाओ’ अउ छत्रसाल गायकवाड़ के भजन संग्रह के सीडी के विमोचन घलव होईस।

 

 

छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग के तीसर प्रान्तीय सम्मलेन 2015

दिनाँक-20 अउ 21 फरवरी, 2015
समय – बिहनिया 08:00 बजे ले
ठउर – देवकी नंदन सभाकक्ष, लाल बहादुर शास्त्री स्कूल, कोतवाली चौक, बिलासपुर (छ.ग.)

nevta-2015-sammelan1

nevta-2015-sammelan2


nevta-2015-sammelan3

nevta-2015-sammelan4

छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के दू दिनी प्रांतीय सम्मेलन

२३ अउ २४ फरवरी २०१३
स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती महाविद्यालय, आमदीनगर, हुडको भिलाई.

कार्यक्रम विवरण

२३.०२.२०१३
बिहिनया ९ बजे ले ११ बजे तक – पंजीयन
बिहिनया ११ बजे ले १ बजे तक – जेवन
मझनिया १ बजे ले २ बजे तक – महिला साहित्यकार गोष्ठी
मझनिया २ बजे ले ५ बजे तक –
सुनबो सुनाबो अध्यक्षा – डाॅ. निरूपमा शर्मा, संचालन – श्रीमती शशि दुबे, प्रतिभागी – श्रीमती शकुन्तला शर्मा, डाॅ.संध्या रानी शुक्ल, प्रकृति कश्यप, डाॅ.दुर्गा पाठक, सुधा वर्मा, डाॅ.उर्मिला शुक्ल, श्रीमती आशा शर्मा आदि
लोकगीत –
संचालन – श्रीमती सुमन बाजपेई, प्रतिभागी – रामदत्त जोशी, सुश्री राधा धगे, कु.वंदना वर्मा.
छत्तीसगढ़ी भाषा के बिकास म लेखिका मन के भागीदारी अउ जुम्मेदारी बिषय म गोठ बात.
अध्यक्षा – डाॅ.सत्यभामा आडिल, संचालन – श्रीमती शकुन्तला तरार, प्रतिभागी – श्रीमती चंद्रकला त्रिपाठी, डाॅ.हंसा शुक्ला, श्रीमती बसंती वर्मा, सुधा शर्मा, गीता विश्वकर्मा, डाॅ.नलिनी श्रीवास्तव, डाॅ.तृषा शर्मा, मीनाक्षी अवस्थी, श्रीमती विपुला पाण्डेय, श्रीमती हेमलता शर्मा, श्रीमती मंजू लुक्कड़
संझा ५ बजे ले ७ बजे तक गद्य साहित्य चर्चा
सत्र अध्यक्ष – संत पवन दीवान, संयोजक संचालक – डाॅ.परदेशीराम वर्मा, आलेख – डाॅ.श्रीमती उर्मिला शुक्ला, मुख्य वक्ता – श्री नन्द किशोर तिवारी, डाॅ.बिहारी लाल साहू, श्री रवि श्रीवास्तव, डाॅ.एन.के.वर्मा.
बातचीत – श्रीमती प्रभा सरस, श्रीमती सरला शर्मा, श्री मंगत रवीन्द्र.
रतिहा ९ बजे ले कवि सम्मेलन
संचालन – सर्वश्री मुकुन्द कौशल, प्रतिभागी – अनिरूद्ध नीरव अम्बिकापुर, रामेश्वर वैष्णव रायपुर, लक्ष्मण मस्तूरिहा रायपुर, रामेश्वर शर्मा रायपुर, रमेश विश्वहार रायपुर, किशोर तिवारी भिलाई, आत्माराम कोसा राजनांदगांव, पदूमलोचन मूॅंहफट राजनांदगांव, राजेश तिवारी रायपुर, श्रीमती दीप दुर्गवी कोरबा, पी.सी.लाल यादव गंडई, डॉ.जीवन यदु खैरागढ़, चंद्रशेखर शर्मा धमतरी, तलिक लांगे धमतरी, अरविन्द मिश्रा रायपुर, साधना कसार महासमुंद, शोभा शर्मा राजिम, आशा झा, सुधा शर्मा, सुधा देवांगन, गीता विश्वकर्मा, शांति तिवारी जगदलपुर, राधिका वर्मा तिल्दा, शैल दुबे जगदलपुर, मीर अली मीर, कौशल साहू कर्वधा आदि.

२४.०२.२०१३
बिहिनया ९ बजे ले ११ बजे तक स्वल्पाहार
बिहिनया ११ बजे ले १२ बजे तक समापन गोठ
माई पहुना – मान.डाॅ.रमन सिंह, मुख्यमंत्री, छ.ग.शासन, पगरइत – मान. श्री बृजमोहन अग्रवाल, मंत्री, छ.ग.शासन, खास पहुना – मान.श्री हेमचंद यादव, मंत्री, छ.ग.शासन, मान.सुश्री सरोज पाण्डेय, सांसद, मान.केयूर भूषण, संरक्षक, मान.पवन दीवान संरक्षक
cg
मझनिया १२ बजे ले २ बजे तक भाखा पद्य साहित्य चर्चा
छत्तीसगढ़ी में व्यंजना – डाॅ.चित्तरंजन कर, छत्तीसगढ़ी के गंवई गांव – डाॅ.अनसूया अग्रवाल, छत्तीसगढ़ी म नई कविता – डाॅ.सुधीर शर्मा, छत्तीसगढ़ी म प्रबंध काव्य की परम्परा – डाॅ.विनय कुमार पाठक, छत्तीसगढ़ी म मुक्तक काव्य – डाॅ. विमल कुमार पाठक, छत्तीसगढ़ी म गीत परम्परा – डाॅ.बल्देव, डाॅ.जीवन यदु, डाॅ.विजय सिन्हा, डाॅ.दादू लाल जोशी, डाॅ.संतराम देशमुख, डाॅ.पी.सी.लाल यादव, आत्माराम कोसा, डाॅ.मंजू शर्मा, डाॅ.बल्दाउ प्रसाद निर्मलकर, दुर्गाप्रसाद पारकर.
मझनिया २ ले ३ बजे तक – जेवन
मझनिया ३.३० बजे ले – खुली चर्चा, काव्यपाठ

ये जानकारी राजभाषा आयोग के पम्पलेट म छपे हावय तउन ला हमला एक झन संगी हर उधारी म देहे हावय, आजोजक अउ संयोजक मन गुरतुर गोठ के कोनो सुध नई लेहे हांवय.

छत्‍तीसगढ़ राजभाषा आयोग के आयोजन

कामकाजी छत्तीसगढ़ी के स्वरूप अउ संभावना
संगोष्ठी
मंगलवार, २९ जनवरी २०१३
आयोजक:
स्‍वामी श्री स्‍वरूपानन्‍द सरस्‍वती महाविद्यालय, भिलाई.
आयोजन सहयोग:
डॉ. श्रीमती हंसा शुक्ला, प्राचार्या, स्‍वामी श्री स्‍वरूपानन्‍द सरस्‍वती महाविद्यालय
डॉ. सुधीर शर्मा, हिन्‍दी विभागाध्‍यक्ष, कल्याण महाविद्यालय




Stage

Daneshwar अपन बिचार रखत राजभाषा आयोग के अध्‍यक्ष पं. दानेश्‍वर शर्मा

surendraअपन गोठ कहत राजभाषा आयोग के सचिव पद्मश्री डॉ. सुरेन्‍द्र दुबे

hemchandकार्यक्रम के माई पहुना मंत्री, हेमचेद यादव

Paleshwar Sharmaअपन बिचार रखत डॉ.पालेश्‍वर शर्मा

Vinay Pathakअपन सुझाव देवत डॉ.विनय कुमार शर्मा

Surjeet Navdeep व्‍यवसाय अउ कवि सम्‍मेलन म कामकाजी भाषा उपर बोलत सुरजीत नवदीव

Mukund Kaushalकामकाजी भाषा ला समझावत जनकवि मुकुन्‍द कौशल

Rasikअपन बात रखत राजाराम ‘रसिक’

Sanjeeva Tiwariइंटरनेट म कामकाजी भाषा उपर बोलत संजीव तिवारी

Bhojpuriधन्‍यवाद जोहारत महाविद्यालय के प्राध्‍यापिका

Hansaडॉ. हंशा शुक्‍ला के सम्‍मान करत माई पहुना

group4बिचार सुनत पहुना मन

Group3सकलाए पहुना मन

Group2अवइया कार्यक्रम बर बिचार करत सियान