छत्तीसगढ़ी के सर्वनाम





मैं / मैं हर (मैं) – मैं दुरूग जावत रहेंव/ मैंं हर दुरूग जावत रहेंव।
हमन (हम) – हमन काली रईपुर जाबो।
तैं / तें हर (तुम) – तैं का करत हस? / तैं हर का करत हस?
तुमन (आप लोग) – तुमन कहां जावत हव। (बहुवचन)/ तुमन बने दिखत हव। (एकवचन)
ओ / ओ हर (वह) – ओ खावत हे। / ओ हर खावत हे।
ओमन (वे) – ओमन नई खईस।
ए,/ एहर (यह) – ए कुकुर आए। / ए हर कुकुर आए। (एकवचन)
एमन (ये) – एमन बिलासपुर ले आवत हें। (बहुवचन)

छत्‍तीसगढ़ी भाषा संबंधी हमारेे इस प्रयास में कोई त्रुटि या कमी हो तो कृपया टिप्‍पणी करके सुझाव देवें।



2 Thoughts to “छत्तीसगढ़ी के सर्वनाम”

  1. S. P. Choubey

    बड़ सुग्घर उदीम हे 36 गढ़ी बोली ला भाषा के दरजा देवाय बर बियाकरण के जरुरत परही। उदीम ला अन्जाम तक पहुंचना चाही

  2. लक्ष्मी नारायण लहरे ,साहिल ,

    बहुतेच सुघ्घर ,जय हो ..

Comments are closed.