लोटा धरके आने वाला इहां टेकाथें बंगला

लोटा धरके आने वाला इहां टेकाथें बंगला।
जांगर टोर कमाने वाला है कंगला के कंगला।
देखत आवत हन शासन के शोसन के रंग ढंग ला।
राहत मा भुलवारत रहिथे छत्तीसगढ़ के मनला।

हमरे भुंइया ला लूटत हें, खनथें हमर खनिज ला।
भरथे अपन तिजोरी, हरथें हमर अमोल बनिज ला।
चोरा चोरा के हवै ढोहारत छत्तीसगढ़ के वन ला।
लोटा धरके आने वाला इहां टेकाथें बंगला।

लाठी गोली अउर बूट से लोकतंत्र चलवाथें।
अइसन अफसर छांट छांट के छत्तीसगढ़ मा लाथें।
नेता मन सहराथें अइसन शासन के हुड़दंग ला।
लोटा धरके आने वाला इहां टेकाथें बंगला।

छत्‍तीसगढ़ मा भुखमरी बेकारी छाये रहिथे।
नेता अफसर येही ला आजादी आये कहिथे।
लूटत हे उद्योगपति सब छत्‍तीसगढ़ के घन ला।
लोटा धरके आने वाला इहां टेकाथें बंगला।

जेती देखो छत्तीसगढ़ के होवत हे बरबादी।
अइसन घोर गुलामी के उन नाम घरे आजादी।
आँखी हमरे उपर गुरेरैं, खाके हमरे अन ला।
लोटा धरके आने वाला इहां टेकाथें बंगला।

– हरि ठाकुर

One Thought to “लोटा धरके आने वाला इहां टेकाथें बंगला”

  1. विवेक तिवारी

    अब्बड़ सुग्घर सटीक चित्रण

Comments are closed.