छत्‍तीसगढी़ कविता के दिसानायक

छत्‍तीसगढी़ कविता के दिशा नायक प्‍यारे लाल गुप्‍त के जनम 17 अगस्‍त 1891 म छत्‍तीसगढ़ के जुन्‍ना राजधानी रतनपुर म एक प्रष्‍ठ‍ित वैस्‍य परिवार में होय रहिस। आप पिंगलाचार्य भानु कवि के कीति कलस अउ लोचन प्रसाद पांडेय के धजा वाहक रहेव। आप हिन्‍दी के मूल लेखक आव फेर समय के मुताबिक थोर बहुत रचना छत्‍तीसगढ़ी म घलोक करेव जेमन के छत्‍तीसगढी़ साहित्‍य के इतिहास म स्‍थायी महत्‍व हवय।

फ्रांस के राज क्रान्‍ति, ग्रीस के इतिहास, लवंगलता (मौलिक उपन्‍यास), बिलासपुर वैभव (गजेटियर), पुष्‍पहार, कथा संग्रह रतीराम के भाग्‍य सुधार, श्री विष्‍णु महायज्ञ स्‍मारक ग्रंथ अउ लोचन प्रसाद पांडेय के जीवनी आपके प्रकासित ग्रंथ आय।

गुरतुर गोठ म संजोए उंखर रचना –