छत्‍तीसगढी़ के क्‍लासिक कवि सेसनाथ सरमा सील के जनम पौष शुक्‍ल द्वादसी संवत 1968 (14 जनवरी 1914) जांजगीर में होय रहिस। उन स्‍वाध्‍याय द्वारा संस्‍कृत बंगला अंग्रेजी उर्दू मराठी अउ हिन्‍दी साहित्‍य के अध‍िकारी विद्वान रहिन। उन कानपुर के सुकवि काव्‍य कलाधर राष्‍ट्र धर्म अग्रदूत संगीत सुधा विशाल भारत जइसे उच्‍च कोट‍ि के पत्रि‍का मन मा छपत रहिन। कविता लता रवीन्‍द्र दर्शन उंकर प्रकाशित काव्‍य ग्रंथ आय। उन हिन्‍दी के छोड़ छत्‍तीसगढी़ घलोक म लिखत रहिन। ए रस सिद्ध कवि हर छत्‍तीसगढी़ म बरवै छंद ल परतिष्‍ठा परदान करे हे। डॉ. पालेस्‍वर सरमा के सब्‍द म शील जी प्रारंभिक कविताएं छायावादी है। इंकर इंतकाल 7 अक्‍टूबर 1997 में हो गइस।