कबिता : होरी के बजे नंगारा हे

होरी के फाग म चैतू शूंभय
फिरतू के बजे नंगारा हे।
भांग-मंद मा मंगलू नाचे-झपय
मंगतिन के मया भरे बियारा हे।
बुधू ह उड़ावय फुदकी-गुलाल
अंचरा तोपे बुधनी के गाल होगे लाल।
लईका-जुवान टोली म घूमय
गली-दुवारी म मस्ती छाए हे।
गोंदा-दशमत-परसा के सुग्घर खिले फूल
ऐसो के फागुन ह, नवा बिहिनिया लाए हे।

संदीप साहू ‘प्रणय’
68एफ, रिसाली सेक्टर
भिलाईनगर, जि. दुर्ग

2 Thoughts to “कबिता : होरी के बजे नंगारा हे”

  1. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं

  2. रंगों की चलाई है हमने पिचकारी
    रहे ने कोई झोली खाली
    हमने हर झोली रंगने की
    आज है कसम खाली

    होली की रंग भरी शुभकामनाएँ

Comments are closed.