छत्तीसगढ़ी कुण्डलियां

छत्तीसगढ़ी हे हमर, भाखा अउ पहिचान ।
छोड़व जी हिन भावना, करलव गरब गुमान ।।
करलव गरब गुमान, राज भाषा होगे हे ।
देखव आंखी खोल, उठे के बेरा होगे हे ।।
अड़बड़ गुरतुर गोठ, मया के रद्दा ल गढ़ी ।
बोलव दिल ला खोल, अपन ये छत्तीसगढ़ी ।।

भाखा गुरतुर बोल तै, जेन सबो ल सुहाय ।
छत्तीसगढ़ी मन भरे, भाव बने फरिआय ।।
भाव बने फरिआय, लगय हित-मीत समागे ।
बगरावव संसार, गीत तै सुघ्घर गाके ।
झन गावव अष्लील, बेच के तै तो पागा ।
अपन मान सम्मान, ददा दाई ये भाखा ।।

आनी बानी गीत गा, बने रहय श्रृंगार ।
गढ़व षब्द के ओढ़ना, लोक-लाज सम्हार ।।
लोक-लाज सम्हार, परी कस सुघ्घर लागय ।
छत्तीसगढ़ी गीत, देष परदेष म छाजय ।।
गुरतुर लागय गीत, होय जस आमा चानी ।
दू अर्थी बोल, गढ़व मत आनी बानी ।।
Ramesh Chouhan
रमेशकुमार सिंह चौहान
rkdevendra4@gmail.com
ब्‍लॉग : सुरता (http://rkdevendra.blogspot.in)

3 Thoughts to “छत्तीसगढ़ी कुण्डलियां”

  1. शकुन्तला शर्मा

    बढिया लिखे हावस ग , रमेश भाई । तीसरी कक्षा म गिरधर की कुण्डलियॉ पढे रहेंन तेकर सुरता आ गे । बहुत – बहुत बधाई ।

  2. आदरणीया शर्मा दीदी आप ये रचना ला मान देंव, आप जइसे रचनाकार के आसीस पा के मंय धन्य होंगेंव, आप ला बहुत बहुत धन्यवाद

  3. manoj shrivastava

    sughar haway bhaiya

Comments are closed.