हमर घरे मा हावय दवई

मेंथी दाना पीस के राखव, एक चम्मच पानी मा चुरोवव।
रोजे दिन येला पियव,रोग बिमारी ला धुरोवव।
नून शक्कर कुछु झन डारव, सोझे येला पीबो।
आंव, शुगर, माडी पीरा मिटाही, सुख के जिनगी जीबो।
पेट बिकारी रहिही तेमा, मीठ्ठ छाछ, दही पानी ला पीबो।
पेट दरद अनपचक नइ होही, बने जनगी जीबो।
रोजे दिन जउन अांवरा खाही, बांचे रहिही बिमारी ले।
दिल के बिमारी कभू नइ होही, बांचही बी.पी.के चिन्हारी ले।
जेवन खाय के पाछू हांथ के पानी झन पोछव.
दूनोंं हथेरी ला रगर के, आंखी कान के उपर धरव।
आंखी के जोती हा बाढही, बिमारी हा भगाही।
निरोगी काया ला पाही जउन येला अजमाही।
आ गेहे बरसात अब चलव यहू ला अपनाबो।
सरदी जुखाम फ्लू बुखार, सब्बो ला भगाबो।
अदरक के भुरका, आधा चम्मच, थोकिन गुर मिलाबो।
कुनकुन पानी मा रतिहा पीबो, तन ला बिमारी ले बचाबो।
मंय हा नइ काहत हंव भइ आयुरवेद बतावत हे।
रोग बिमारी ले बांचव कहिके घेरी बेरी चेतावत हे।
अपनाहू कि नही आप मन जा नो।
अपना लेहू दीदी भईया हो आयुरवेद ला मानो।

केंवरा यदु मीरा

One Thought to “हमर घरे मा हावय दवई”

  1. अरुण कुमार निगम

    सुग्घर उपयोगी सलाह

Comments are closed.