छत्तीसगढ़ की संस्कृति पर गांधीवाद का प्रभाव

शोधकर्ता: खोबगड़े, रजनी
गाइड : चंद्राकर, सुभाष
कीवर्ड: संस्कृति
पूर्ण तिथि: 2006
विश्वविद्यालय: पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय
छत्तीसगढ़ की संस्कृति पर गांधीवाद का प्रभाव

अनुक्रमणिका

अध्याय प्रथम : छत्तीसगढ़ की संस्कृति
संस्कृतिक का परिचय, संस्कृति का अर्थ एवं परिभाषा, संस्कृति संरचना, छत्तीसगढ़ की संस्कृति के परिप्रेक्ष्य में,
छत्तीसगढ़ की लोक संस्कृति, छत्तीसगढ़ का लोक साहित्य, कवि समाज की स्थापना, छत्तीसगढ़ की लोक भाषाएँ,
छत्तीसगढ़ की लोक बोली, छत्तीसगढ़ शब्द कोष एवं विस्तार
छत्तीसगढ़ी लोक गीत
करमा गीत, सुवा गीत, ददरिया, पन्डवानी गीत,बांस गीत
छत्तीसगढ़ी लोक कलाएँ
आदिवासी लोककला
छत्तीसगढ़ी लोक नृत्य
सुवा नृत्व, करमा नृत्य, अहिर’ नाचा या रावत नाचा, डंडा
नृत्य, रहस नृत्य,
छत्तीसगढ़ी लोक गीत
करमा गीत, सुवा गीत, ददरिया, पन्डवानी गीत,बांस गीत,
छत्तीसगढ़ी लोक कलाएँ, आदिवासी लोककला।
छत्तीसगढ़ी लोक नृत्य
सुवा नृत्व, करमा नृत्य, अहिर नाचा या रावत नाचा, डंडा
नृत्य, रहस नृत्य

अध्याय द्वितीय : गाँधीवाद, चिन्तन एवं विचाधारा
महात्मा गाँधी का जीवन परिचय, गाँधीवादी चिन्तन और
जनचेतना, गाँधीवाद का सार, सत्याग्रह, गाँधीवाद का
धार्मिक आधार, सत्य और अहिंसा का अर्थ, अहिंसात्मक
समाज की विशेषताएँ, गाँधी जी की देन

अध्याय तृतीय : छत्तीसगढ़ प्रदेश में गाँधीवाद का प्रभाव
कांग्रेस की लोक प्रियता एवं आन्दोलन का विस्तार : “गाँधी की आँधी” एवं छत्तीसगढ़ में नये युग की शुरूआत,
छत्तीसगढ़ स्वराज्य संघ ग्रेजुएट एवं आन्दोलन का विस्तार, सन्‌ 1917 के आन्दोलन एवं कांग्रेस अधिवेशन, मान्टेक्यू
चेम्सफोर्ड रिपोर्ट एवं छत्तीसगढ़ में प्रभाव, 1918 का रायपुर के प्रांतीय कांग्रेस का रानीतिक सम्मेलन, 1919 का रोलेक्ट
एक्ट बिल एवं छत्तीसगढ़ में जन असन्तोष एवं कांग्रेस, जलियांवाला बाग काण्ड एवं छत्तीसगढ़, 1919 कांग्रेस,
छत्तीसगढ़ एवं गाँधी का प्रस्ताव, 1920 में छत्तीसगढ़ में आन्दोलन एवं कांग्रेस की गतिविधियों की समीक्षा, धमतरी
में कंडेल नहर सत्याग्रह, छत्तीसगढ़ के लोक गीतों में गाँधीदर्शन, असहयोग आन्दोलन एवं छत्तीसगढ़,छत्तीसगढ़
में गाँधी जी का आगमन, स्वराज्य पार्टी का गठन, सविनय अवज्ञा आन्दोलन, साइमन कमीशन का विरोध, द्वितीय सविनय
अवज्ञा आन्दोलन, गाँधीजी का छत्तीसगढ़ में द्वितीय आगमन, व्यक्तिगत सत्याग्रह, भारत छोड़ो आन्दोलन एवं रायपुर,
षडयंत्र केश

अध्याय चतुर्थ : छत्तीसगढ़ के प्रमुख गाँधीवादी
पं. सुन्दरलाल शर्मा, ठाकुर प्यारेलाल, माधवराव सप्रे, बैरिस्टर छेदीलाल, पं. रविशंकर शुक्ल, ई. राघवेन्द्र राव,
घनश्याम सिंह गुप्त, मुंशी अब्दुल रऊफ, पं. रामदयाल तिवारी, पं. लोचन प्रसाद पाण्डेय, डॉ. खूबचन्द बघेल, पं. केदारनाथ
ठाकुर, पं. वामन राव लाखे, पं. रत्नाकर झा, यति यतनलाल, क्रांति कुमार भारती, डॉ. राधाबाई, जय नारायण पाण्डे,
नारायण राव अम्बिलकर, केयूर भूषण, नारायण राव मेघावाले, पं. मोतीलाल त्रिपाठी, कमलनारायण शर्मा, चन्दूलाल चन्द्राकर